Chandraprabha Vati Ke Fayde – चंद्रप्रभा वटी सेवन विधि, नुकसान और फायदे

चंद्रप्रभा वटी – chandraprabha vati in hindi

आज हम इस आर्टिकल में चंद्रप्रभा वटी ( chandraprabha vati ke fayde ) के बारे में जानने की कोशिश करेंगे. चंद्रप्रभा वटी के फायदे, नुकसान और इसके उपयोग करने का तरीके के बारे में. इन सभी बातों के बारे में आज हम विस्तार से बताने की कोशिश करेंगे. चंद्रप्रभा वटी का सेवन स्त्री पुरष किसी भी उम्र में कर सकते हैं. 

चंद्रप्रभा वटी के सेवन से शरीर में नई ऊर्जा का संचार होता है. जिससे आपको पहले से बेहतर महसूस होता है. नीचे इसी की जानकारी हम आपको देने का प्रयास करेंगे. समझ में ना आने पर आप हमसे संपर्क भी कर सकते है. 

हमारा लक्ष्य आपको आयुर्वेद, आयुर्विज्ञान और योग से जुड़ी सभी तरह की जानकारी देना है. जिससे आपको जानकारी का अभाव ना हो. जानकारी ( chandraprabha vati ke fayde ) के अभाव में लोग काफी गलती करते है. जिससे लोगो को काफी समस्या का सामना भी करना पड़ता है. आपको ऐसी बहुत सी वेबसाइट इंटरनेट या बोले तो गूगल पर उपलब्ध है, जो आपको जानकारी तो देते है.

लेकिन पूरी जानकारी नहीं देते है. जिस वजह से व्यक्ति को कभी कभी नुकसान का भी सामना करना पड़ सकता है या कभी कभी पड़ता भी है. आपको puneplasma आपको आयुर्वेद और योगा की सभी जानकारी देने का प्रयास करेंगे. समझ में न आने पर आप हमसे कॉमेंट के जरिए या डायरेक्ट ईमेल करके जानकारी प्राप्त कर सकते है.

चंद्रप्रभा वटी क्या है – what is chandraprabha vati in hindi

चंद्रप्रभा वटी ( chandraprabha vati ke fayde ) एक आयुर्वेदिक औषधि है. जो टैबलेट के रूप में उपलब्ध है. आज कल की जिंदगी में हम अपने बारे में सोचना ही भूल गए है. आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी में हमें बहुत सी बीमारियों का सामना करना पड़ता है. ऐसे में अगर आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन करते हैं, तो यह बहुत फायदेमंद होता है।

चंद्रप्रभा वटी के सेवन से शरीर को कई तरह में रोगों से लड़ने की शक्ति मिलती है. चंद्रप्रभा वटी कई बीमारियों से छुटकारा मिल सकता है. चंद्रप्रभा वटी गुर्दे की पथरी, मूत्राशय, मूत्र पथ, बार बार पेशाब आना, पेशाब में रूकावट, प्रोस्टेट बढ़ना या घटना, अग्नाशय में रोग, हड्डियों के रोग, जोड़ों के दर्द में, पुरूषों में बांझपन की समस्या, नंपुसकता दूर करने में, स्वपन दोष की समस्या, मधुमेह रोग, महिलाओं की समस्याओं के साथ मानसिक रोगों के इलाज में भी काफी फायदेमंद होता है.

चंद्रप्रभा वटी के घटक – chandraprabha vati ingredients in hindi

चंद्रप्रभा वटी ( chandraprabha vati ke fayde ) को बनाने में बहुत सी जड़ी बूटियों का इस्तेमाल किया जाता है. उन सभी जड़ी बूटियों का वर्णन नीचे किया गया है. जिससे इस्तेमाल कर आप भी अपने घर में चंद्रप्रभा वटी बना सकते हैं.

जौ : जो हमारे ब्लड शुगर को नियंत्रित करने का कार्य करती है. इससे हमारे मधुमेह कंट्रोल में रहता है. इसके साथ साथ यह हमारे शरीर में मौजूद खून में ग्लूकोज को मात्रा को कम करने का कार्य करता है, जिसके वजह से हमारे शुगर लेवल नियंत्रित हो जाता है. 

बांस : यह उन लोगो के लिए फायदेमंद होता है, जो लोग शारीरिक संबंध का भरपूर आनंद लेना तो चाहते है, लेकिन गर्भवती होने का खतरा के वजह से ऐसा नहीं कर पाते है. यह महिलाओं के अनचाहे गर्भ को रोकने में मदद करता है. 

लौह भस्म : लोह भस्म हमे कई तरह के और से लड़ने में मदद करता है. लोह भस्म हमारे शरीर के लिए अनेक लाभकारी होता है. इसमें मौजूद तत्व हमारे खून को साफ करने एवम निर्माण में सहायता करता है. जिससे हम एनीमिया जैसे रोग से हमे छुटकारा मिलता है. 

शिलाजीत : यह उन इलाकों में पाया जाता है. जहां पहाड़ अधिक होते है. यह पहाड़ के ऊपर पाया जाता है. यह काफी गर्म होता है. इसका उपयोग मुख्य रूप से उन लोगो के लिए किया जाता है, जो लोग गुप्ता रोग की समस्या से परेशान होते है. इसके अलावा यह शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ को भी बाहर निकालने का कार्य करता है. 

दालचीनी : दालचीनी एक ऐसी चीज है, जो आपको लगभग हर किसी के घर में मिल जायेगा. इसका उपयोग मसाले के रूप में हमारे किचन में किया जाता है. यह हमारे खाने के स्वाद को काफी बड़ा देता है. ठीक उसी के तरह यह दवा के रूप में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है. चोट लगने से होने वाले दर्द को कम करने में यह बहुत लाभकारी होता है. 

कपूर : यह हमारे शरीर में मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया को मारने का कार्य करता है. इसके साथ साथ यह हमारे में अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ाने का भी कार्य करता है. यह हमारे वीर्य में मौजूद शुक्राणु की संख्या में भी वृद्धि करने का कार्य करता है. अगर हमारे पेनिस मैं किसी तरह का इन्फेक्शन हो जाता है, तो यह उसे भी ठीक करने कार्य करता है. 

गुग्गुल : यह हमारे लेट के लिया काफी लाभदायक होता है, क्योंकि यह हमारे पेट में मौजूद गैस को बाहर निकालने के साथ साथ हमे इस समस्या से छुटकारा दिलाने का भी कार्य करता है. इस गुग्गुल के सेवन से हमे अधिक मात्रा में पसीना आता है. 

चंदन : चंदन हमारे लिए बहुत फायदेमंद होता है. यह हमे अनेक रोग से बचाने का कार्य करता है. यह हमे बुखार से लड़ने में मदद करता है. हमारे शरीर में किसी तरह का सूजन होने पर यह उसमे भी काफी फायदा करता है. यह हमे वायरल इन्फेक्शन से भी बचाता है. 

आंवला : आंवला के बारे अगर आपको बताएं, तो इसका पेड़ होता है. आंवला आपको किसी भी सब्जी की दुकान पर मिल जायेगा. अगर इसके स्वाद की बात करे, तो यह काफी खट्टा होता है. जिस वजह से यह हाजमे के काम मैं आता है. का उपयोग आप बुखार में भी कर सकते है. यह हमारे शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ को बाहर निकालने का कार्य करता है. 

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – chandraprabha vati ke fayde

चंद्रप्रभा वटी ( chandraprabha vati ke fayde ) बहुत से रोगों मैं बहुत फायदेमंद है. इसलिए इसका सेवन करने की सलाह डॉक्टर भी देते हैं. चंद्रप्रभा वटी के फायदे किया किया है. या चंद्रप्रभा वटी के फायदे किन बीमारियों मैं होते हैं. इसका वर्णन हम नीचे आसान शब्दों में बताने जा रहे हैं. जिससे आपको चंद्रप्रभा वटी के फायदे के बारे में आसानी से समझ में आ सके. 

चंद्रप्रभा वटी के फायदे के फायदे मधुमेह रोग में – chandraprabha vati ke fayde

चंद्रप्रभा वटी मधुमेह रोगी व्यक्ति के लिए बहुत फायदेमंद है. चंद्रप्रभा वटी में बहुत सी ऐसी जड़ी बूटियां मौजूद होती है, जो यूरिन में चीनी की मात्रा को नियंत्रित करने में सहायक होती है. इसलिए चंद्रप्रभा वटी का सेवन सुबह और दो दो गोली सेवन करना चाहिए. चंद्रप्रभा वटी के सेवन के फायदे बहुत है.

चंद्रप्रभा वटी के फायदे किडनी रोग में – chandraprabha vati benefits in hindi

चंद्रप्रभा वटी का सेवन किडनी के मरीजों के लिए वरदान से कम नहीं है. चंद्रप्रभा वटी का सेवन सभी किडनी रोगी को कराया जाता है. और डॉक्टर भी किडनी मरीजो को चंद्रप्रभा वटी का सेवन करने की सलाह देते हैं. चंद्रप्रभा वटी में सभी जड़ी बूटियां आयुर्वेदिक होने के कारण यह किडनी रोग में बहुत लाभप्रद है. 

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि किडनी रोग में पेशाब की समस्या उत्पन हो जाती है. पेशाब बहुत कम होता है. जिस वजह से शरीर में बहुत सी बीमारिया उत्पन्न हो जाती है. ऐसे में अगर आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन बहुत ही लाभदायक होता है. इसके अलावा यह और भी बहुत रोगों मैं फायदेमंद है. 

चंद्रप्रभा वटी के लगातार से किडनी को बहुत फायदा होता है. यूं कहे, तो किडनी को एक नया जीवन मिलता है. जिसकी वजह से उनकी कार्य करने की क्षमता में भी इजाफा होता है. चंद्रप्रभा वटी इसके अलावा शरीर से और भी कई विशेले पदार्थ को शरीर से बाहर निकलती है, जैसे – यूरिया और यूरिक एसिड.

चंद्रप्रभा वटी के फायदे मूत्र संबंधी विकारों में – chandraprabha vati benefits in hindi

चंद्रप्रभा वटी अन्य रोगों कि तरह मूत्र संबंधी विकारों मैं भी बहुत फायदेमंद है. यदि किसी को बार बार पेशाब आने की समस्या हो, तो उस व्यक्ति को चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहिए. इसके अलावा पेशाब रुक रुक कर आता हो, पेशाब में जलन होना, सही मात्रा में पेशाब का ना आना या पेशाब ही ना होना, तो ऐसे में भी आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहिए. चंद्रप्रभा वटी के सेवन से इन सभी बीमारियों से छुटकारा मिलता है. इसके अलावा अगर आपको मूत्र संक्रमण है, तो भी आप इसका सेवन कर सकते हैं.

चंद्रप्रभा वटी के फायदे मानसिक और शारीरिक शक्ति को बढ़ाने में – chandraprabha vati benefits in hindi

चंद्रप्रभा वटी का अगर आप लगातार सेवन करते हैं, तो यह आपको शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत बनाने में बहुत मदद करता है. बढ़ती उम्र के कारण लोगो मैं थकावट भी बढ़ने लगती है और मानसिक संतुलन भी बिगड़ने लगता है. ऐसे समय में अगर आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन शुरू कर देते हैं, तो आप ना सिर्फ शारीरिक रूप से मजबूत हो जाते हैं. बल्कि यह आपको मानसिक रूप से भी अधिक मजबूत बना देता है. 

चंद्रप्रभा वटी के फायदे मर्दानी कमजोरी में – chandraprabha vati benefits in hindi

हस्तमैथुन करने के कारण पुरषों को बाद में बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. बहुत अधिक हस्तमैथुन के कारण वीर्य का बहुत अधिक नुकसान होता है. हस्तमैथुन के कारण और भी बहुत सी समस्याएं उत्पन्न होती हैं, जैसे – नामर्दी, शीघ्रपतन, लिंग में टेढापन, लिंग का खड़ा ना होना आदि. ऐसे में अगर आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन करते हैं, तो यह आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं है. 

चंद्रप्रभा वटी के फायदे स्त्री संबंधी रोग में – chandraprabha vati benefits in hindi

चंद्रप्रभा वटी को स्त्री और पुरुष दोनों के लिए सामान्य रूप से इस्तेमाल करने के लिए बनाया गया है. चंद्रप्रभा वटी के सेवन से जितना फायदा पुरुष को होता है. उतना ही फायदा स्त्रियों को भी होता है. चंद्रप्रभा वटी के लगातार सेवन से गर्भाशय में अयी कमजोरी को दूर करने में मदद करता है. और उसे मजबूती प्रदान करता है. 

चंद्रप्रभा वटी के फायदे यूरिक एसिड घटाने में – chandraprabha vati benefits in hindi

चंद्रप्रभा वटी का सेवन यूरिक एसिड को भी कंट्रोल में रखने मैं मदद करता है. जिसके कारण कई बीमारियों से बचा जा सकता है.  इसके अलावा यह गठिया बाय में भी बहुत फायदेमंद है. डॉक्टर गठिया बाय के रोगी को चंद्रप्रभा वटी का 12 महीनों तक सेवन करने की सलाह देते हैं.

चंद्रप्रभा वटी के नुकसान – chandraprabha vati side effect in Hindi

चंद्रप्रभा वटी के सेवन से कोई नुकसान तो नहीं है. लेकिन इसमें लौह की मात्रा अधिक होने के कारण पेट मैं अल्सर जैसे बीमारियों से ग्रस्त व्यक्ति को इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श कर लेना चाहिए. 

आज आपको चंद्रप्रभा वटी में मौजूद किसी घटक से एलर्जी है, तो इसका सेवन करने से बचना चाहिए. परहेज़ ना करने से यह आपके शरीर पर दुष्प्रभाव दिखा सकता है. 

चंद्रप्रभा वटी की सेवन विधि / खुराक – chandraprabha vati uses in hindi

चंद्रप्रभा वटी का सेवन आप एक दिन मैं 2 बार कर सकते है. सुबह और रात के वक़्त. लेकिन इसे कितना लेना है एक बार मैं इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिए. इसका अधिक सेवन सेहत के लिए हानिकारक होता है. बच्चे को एक दिन मैं 2 गोली से अधिक सेवन नहीं कराना चाहिए. वयस्क एक दिन 2 बार इसका सेवन कर सकते हैं. इसका सेवन आपको गुनगुने पानी या दूध के साथ करना चाहिए.  

चंद्रप्रभा वटी के चिकित्सीय उपयोग – chandraprabha vati uses in hindi

चंद्रप्रभा वटी ( chandraprabha vati ke fayde ) का उपयोग बहुत से बीमारियों मैं किया जाता है. सभी बीमारियों के बारे में नीचे बताया गया है. जिसके बारे में इस दवा का सेवन करने वाले मरीज को पता होना चाहिए. 

सूजाक : सुजाक एक ऐसा रोग है, जो शारीरिक संबंध बनाने के दौरान आपके साथी से आपको हो सकता है. यह एक तरह का बैक्टेरियल संक्रमण होता है. जिसे निसेरिया ग्नोरिया के नाम से जाना जाता है. यह ऐसा संक्रमण होता है, जो महिला और पुरुष को दोनो संक्रमित कर सकता है. 

अगर आप इस समस्या से जल्द से जल्द छुटकारा पाना चाहते हैं, तो इस समस्या से दौरान शारीरिक संबंध बनाने से बचना चाहिए. इसके अलावा आप कई तरह के दवा का सेवन इस समस्या से छुटकारा पा सकते है. इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप चंद्रप्रभा वटी का उपयोग कर सकते है.

बांझपन : जो महिला या पुरुष बांझपन की समस्या से परेशान है, उन लोगो को इस चंद्रप्रभा वटी का सेवन अवश्य ही करना चाहिए. मां बनना किसी भी महिला या लड़की का सबसे बड़ा सपना होता है. लेकिन आज के इस भागदौड़ भरी जिंदगी में बांझपन की समस्या बढ़ती जा रही है. बांझपन को infertility के नाम से भी जाना जाता है. बांझपन का मुख्य हमारी गलत जीवन शैली ही होती है. इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए चंद्रप्रभा वटी आपकी बहुत सहायता करता है. 

तनाव : तनाव कई बीमारियों की मुख्य वजह होती है. इसलिए ही तो कहा गया है ‘ चिता मुर्दे को और चिंता जिंदे को जला देती है’ इसलिए व्यक्ति को चिंता से दूरी बना कर ही रखना चाहिए. जो लोग इसकी चपेट में आ जाते है, वे लोग हमेशा किसी ना किसी बात को लेकर परेशान ही रहते है. यह किसी तरह की समस्या नही है. यह हमारे मन में उठने वाला एक विचार रहता है. जो हमको छोटी छोटी बातों पर गुस्सा दिलाने का कार्य करता है. 

शीघ्रपतन : यह एक ऐसी स्तिथि होती है, जिसमे आपका आपका वीर्य आपके साथी का वीर्य गिरने से पहले आप वीर्य गिर जाता है. इसे ही शीघ्रपतन कहते है. इसे हम और भी कई तरह के नाम से जानते है. यह कोई शारीरिक समस्या नही होती है. इससे आपके और आपके साथी के बीच रिश्ते में कड़वाहट डालने की वजह भी बन सकता है. 

इस समस्या के चलते कई व्यावहिक रिश्ते खराब हो जाते है. भारत में यह समस्या कम से कम 30% लोगो को है. यह व्यक्ति को आत्मग्लानि में डाल देता है. इससे व्यक्ति काफी चिंतित रहने लगता है. अगर आप अपने साथी को संतुष्ट कर अधिक समय तक शारीरिक संबंध बनाना चाहते हैं, तो आपको इस समस्या का जल्द से जल्द उपचार करना चाहिए. इसके लिए आप चंद्रप्रभा वटी का सहारा ले सकते है. 

चंद्रप्रभा वटी का मूल्य – chandraprabha vati price

चंद्रप्रभा वटी ( chandraprabha vati ke fayde ) के फायदे बहुत है. इसलिए बहुत से लोग चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना पसंद करते हैं. और बहुत से डॉक्टर भी इसका सेवन करने की सलाह देते हैं. चंद्रप्रभा वटी का दाम भी बहुत कम है. जिसके वजह से कोई भी इसे आसानी से खरीद सकता है. और यह लगभग सभी दवाई दुकान पर भी उपलब्ध होता है. आप इसे ऑनलाइन स्टोर से भी खरीद सकते हैं. चंद्रप्रभा वटी के एक डब्बे का मूल्य ₹190 है. 

चंद्रप्रभा वटी के बारे में डॉक्टर से पूछे गए सवाल और उनके जवाब

Q1. चंद्रप्रभा वटी का सेवन कितने दिनों तक करना चाहिए? 

Ans : चंद्रप्रभा वटी ( chandraprabha vati ke fayde ) का सेवन कितने दिनों तक करना चाहिए. इसकी जानकारी के लिए आपको डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए. डॉक्टर के कहने पर ही इसका सेवन करना चाहिए.

Q2.चंद्रप्रभा वटी का सेवन कब करना चाहिए? 

Ans : मूत्र, गर्भाशय, प्रजनन अंग संबंधित रोग में चंद्रप्रभा वटी का सेवन खाना खाने से 30 मिनट पहले इसका सेवन करना चाहिए. अन्य रोग मैं इसका सेवन खाना खाने में बाद करना चाहिए. 

Q3. क्या चंद्रप्रभा वटी का सेवन शराब के साथ किया जा सकता है? 

Ans : नहीं. चंद्रप्रभा वटी का सेवन शराब के साथ नहीं किया जा सकता है. चंद्रप्रभा वटी का सेवन शराब के साथ करने से शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है. 

Q4. क्या चंद्रप्रभा वटी के सवम से मुझे लत लग सकती है? 

Ans : नहीं. चंद्रप्रभा वटी के सवन से आपको इसकी लत नहीं लगती है. क्यूंकि यह एक आयुर्वेदिक वटी है. इसलिए इससे लत लगाने की संभावना बहुत कम है. 

Q5. क्या चंद्रप्रभा वटी का सेवन करने के बाद ड्राइविंग किया जा सकता है? 

Ans : आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन कर आसानी से बिना किसी परेशानी के ड्राइविंग कर सकते हैं. यह पूरी तरह सुरक्षित एक आयुर्वेदिक औषधि है. 

Q6. क्या चंद्रप्रभा वटी का सेवन बच्चो के लिए सुरक्षित है?

Ans : नहीं. चंद्रप्रभा वटी का सेवन बच्चो के लिए सुरक्षित नहीं है. इसके सेवन से बच्चो को कई तरह के समस्या का सामना नहीं पड़ सकता है. इसका सेवन केवल 18 साल से अधिक उम्र के ही बच्चो करना चाहिए. 

Q7. क्या चंद्रप्रभा वटी का सेवन महिलाएं कर सकती है?

Ans : हां. चंद्रप्रभा वटी ( chandraprabha vati ke fayde ) का सेवन महिलाएं कर सकती है. इसका सेवन महिलाओं के लिए पूरी तरह से सुरक्षित है. लेकिन गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिला को चंद्रप्रभा वटी का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए. 

Q8. क्या चंद्रप्रभा वटी का सेवन गुनगुने पानी के साथ किया जा सकता है? 

Ans : हां. चंद्रप्रभा वटी का सेवन आप हल्के गुनगुने पानी के साथ कर सकते है. आप इसका सेवन हल्के गर्म दूध या शहद के साथ भी कर सकते है. 

Q9. क्या चंद्रप्रभा वटी भारत में लीगल है? 

Ans : चंद्रप्रभा वटी भारत में पूरी तरह से लीगल है. इसे आप कहीं से भी आसानी से खरीद सकते है. इसे खरीदने के लिए आपको डॉक्टर के पर्ची की आवश्यकता नहीं है. 

Q10. चंद्रप्रभा वटी का पेट पर क्या असर होता है? 

Ans : चंद्रप्रभा वटी का पेट पर दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है. इसका सेवन पेट के लिए पूरी तरह से सुरक्षित है. आप बिना किसी परेशानी के इस दवा का सेवन कर सकते है.   

नोट : चंद्रप्रभा वटी ( chandraprabha vati ke fayde ) के बारे में कोई और प्रश्न है, तो हमे कॉमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताएं. हम आपके सभी सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगें. इसके अलावा आप हमे e-mail पर मैसेज भी कर सकते है. 

Leave a Comment

error: